অসম আদিত্য - দেশ-জাতিৰ অতন্দ্ৰ প্ৰহৰী
শেহতীয়া খবৰ
110 देशों में बढ़ा Corona और Omicron Virus पर नज़र रखना हुआ मुश्किल-चंडीगढ़ में 2 दिन की बैठक आज से, पेट्रोल-डीजल GST में लाने पर चर्चा संभव-हवाई ईंधन की कीमत में फिर 5% की बढ़ोतरी, अब हवाई सफर करना होगा महंगा-कोरोना महामारी से निपटने के लिए किम जोंग उन करने वाले हैं सेना का इस्तेमाल-कोरोना महामारी से निपटने के लिए किम जोंग उन करने वाले हैं सेना का इस्तेमाल-असम में कैंसर सेंटरों के उद्घाटन पर बोले रतन टाटा-असम दौरे पर पहुंचे पीएम मोदी, सात कैंसर अस्पतालों का करेंगे उद्घाटन-असम दौरे पर पहुंचे पीएम मोदी, सात कैंसर अस्पतालों का करेंगे उद्घाटन-विश्व मलेरिया दिवस-दुनिया का रक्षा खर्च 20 खरब डॉलर के पार पहुंचा, भारत भी टॉप 3 में शामिल

CBSE छात्रों के लिए बड़ी खबर, पहली बार होंगे नए पैटर्न में बोर्ड एग्जाम

0

10वीं और 12वीं CBSE बोर्ड के 20 लाख से ज्यादा छात्र बोर्ड परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं. बोर्ड परीक्षा का पहला चरण इसी महीने 16 और 17 नंवबर से शुरू हो रहा है. 12वीं की परीक्षाएं 16 और 10वीं बोर्ड की परीक्षाएं 17 नवंबर से शुरू होंगी. बोर्ड ने इस बार परीक्षाओं के पैटर्न में भी बदलाव किया है. CBSE ने अपनी पॉलिसी में बदलाव किया है. इसके तहत अब देश भर में CBSE बोर्ड के छात्रों की दो बार परीक्षाएं ली जा रहीं हैं. बोर्ड परीक्षाओं का दूसरा चरण अगले साल मार्च-अप्रैल में कंप्लीट होगा. CBSE के मुताबिक इस बार बोर्ड परीक्षा के छात्रों को 20 मिनट का रीडिंग टाइम दिया जाएगा. पहले ये समय 15 मिनट का होता था. पहले चरण की बोर्ड परीक्षाओं में केवल बहुविकल्पीय सवाल (MCQ) पूछे जाएंगे. ये MCQ एग्जाम 90 मिनट का होगा. परीक्षा में सभी सवालों के जवाब के लिए चार ऑप्शन दिए जाएंगे. छात्र इनमें से अपना सही जवाब चुनेंगे. अगर छात्र किसी सवाल का जवाब न देना चाहें तो भी उन्हें गोला लगाना होगा. इसके लिए सवाल को खाली छोड़ देने का एक और ऑप्शन दिया जाएगा, जिसे छात्र गोला लगाकर भरेंगे. जाने-माने शिक्षाविद् पीएस कांडपाल के मुताबिक ये व्यवस्था कई अन्य एग्जाम्स में भी की जाती रही है. दरअसल सभी आंसर सीट्स को स्कैन किया जाएगा. ऐसे में कोई भी सवाल का आंसर खाली नहीं छोड़ा जा सकता. खाली छोड़ने के ऑप्शन को भी छात्रों को गोला बनाकर भरना होगा. CBSE बोर्ड के मुताबिक 10वीं के 20 अंकों के इंटरनल मार्क्स को भी दस-दस नंबरों में बांटा गया है. वहीं 12वीं के लिए इसे 15-15 नंबरों के दो हिस्सों में बांटा गया है. इस बार छात्रों को अपनी पसंद के शहर में बोर्ड परीक्षाएं देने का अवसर भी दिया गया है. दरअसल, कोरोना की वजह से हजारों छात्र अपने शहर को छोड़कर दूसरी जगह पर चले गए. इनमें से कई छात्र अभी भी अपने गांव में रह रहे हैं, जबकि उनका स्कूल किसी दूसरे स्थान पर है. ऐसे में ये छात्र अपने नजदीकी स्कूल में परीक्षाएं दे सकेंगे. परीक्षा के दौरान छात्र कोरोना संक्रमित न हो इसके लिए भी खास इंतजाम किए गए हैं. CBSE के मुताबिक सभी परीक्षा केंद्रों में कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाएगा. एक केंद्र में ज्यादा से ज्यादा 350 छात्र ही परीक्षा दे सकते हैं. छात्रों के बीच छह फीट की दूरी रखी जाएगी. परीक्षा केंद्र में सभी छात्रों और टीचर्स को अनिवार्य तौर पर मास्क पहनना होगा.

Leave A Reply

Your email address will not be published.