অসম আদিত্য - দেশ-জাতিৰ অতন্দ্ৰ প্ৰহৰী
শেহতীয়া খবৰ
हवाई ईंधन की कीमत में फिर 5% की बढ़ोतरी, अब हवाई सफर करना होगा महंगा-कोरोना महामारी से निपटने के लिए किम जोंग उन करने वाले हैं सेना का इस्तेमाल-कोरोना महामारी से निपटने के लिए किम जोंग उन करने वाले हैं सेना का इस्तेमाल-असम में कैंसर सेंटरों के उद्घाटन पर बोले रतन टाटा-असम दौरे पर पहुंचे पीएम मोदी, सात कैंसर अस्पतालों का करेंगे उद्घाटन-असम दौरे पर पहुंचे पीएम मोदी, सात कैंसर अस्पतालों का करेंगे उद्घाटन-विश्व मलेरिया दिवस-दुनिया का रक्षा खर्च 20 खरब डॉलर के पार पहुंचा, भारत भी टॉप 3 में शामिल-जापान में एक टूरिस्ट बोट डूबने से 11 यात्रियों की मौत-नाइजीरिया की अवैध तेल रिफाइनरी में धमाका, 100 से ज्यादा लोगों की मौत

शंघाई में लॉकडाउन के बाद कोरोना से पहली मौत, जीरो कोविड पॉलिसी पर चल रहा चीन

चीन में कोरोना का कहर जारी है। यहां बड़ी संख्या में कोरोना के मामले आने के बाद जीरो कोविड पॉलिसी अपना रहे इस देश में कई जगह सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया। इसी बीच शंघाई शहर में लॉकडाउन के बाद कोरोना से पहली बार किसी व्यक्ति की मौत की खबर है। 28 मार्च को चीन के सबसे बड़े शहर ने ओमिक्रोन वेरिएंट से संक्रमण को कंट्रोल में करने के लिए दो चरणों में लॉकडाउन की शुरुआत की थी। चीन के आर्थिक राजधानी और सबसे अधिक आबादी वाले शहर शंघाई में कोरोना लगातार बढ़़ रहा है। देश के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने शनिवार को कहा कि चीन के कुल 24,680 नए मामलों में अकेले शंघाई में 23,500 से अधिक नए मामलों की पुष्टि हुई है। वहीं उत्तर पश्चिमी चीन के जियान शहर में स्थानीय प्रशासन ने लोगों से अनावश्यक बाहर न निकलने का आग्रह किया है। इसके साथ ही झेंगझोऊ में भी लॉकडाउन लगा दिया गया है। उधर, फ्रांस, इटली और जर्मनी में दैनिक संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। यूरोप और अमेरिका में भी ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण अधिकांश राज्यों में मामले तेजी से बढ़़ें हैं। दूसरी तरफ दक्षिण कोरिया में कोरोना के लगातार कम हो रहे मामलों के बीच अगले सप्ताह से मास्क को छोड़कर सभी कोरोनोवायरस प्रतिबंधों को समाप्त कर दिया जाएगा।

विश्लेषकों का कहना है कि चीन की शून्य-कोविड नीति से जीडीपी लक्ष्य की पूर्ति संभव नहीं है। क्योंकि पाबंदियों की वजह से आपूर्ति श्रृंखलाओं में गड़बड़ी, बंदरगाहों में देरी का सामना करना पड़ता है और शंघाई लॉकडाउन में फंसा रहता है।

दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था ने 2022 के लिए दशकों में अपना सबसे कम वार्षिक सकल घरेलू उत्पाद लक्ष्य निर्धारित किया। विश्लेषकों ने कहा, देश के प्रमुख शहरों में उत्पादन प्रभावित होने से 5.5 प्रतिशत बढ़़ोतरी का आंकड़ा हासिल करना कठिन होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.